Biology12th

निषेचन पश्च घटना: पादपों में निषेचन पश्च घटनाएं(nishechan pashch ghatana)

निषेचन पश्च घटना: पादपों में निषेचन पश्च घटनाएं(nishechan pashch ghatana)



मनुष्य में या  अन्य जिओ में तथा पेड़ पौधों में निषेचन की क्रिया पूरी होने के बाद युग्मक भ्रूण के रूप में पर्वती खो जाता है जिससे नए पौधे या  जियो का जन्म होता है जिसे भ्रूण भाव कहते हैं

हमारे कहने का मतलब है जो युग्मज नर मादा का होता है वही आगे विकसित होकर भ्रूण  बनता है तथा भ्रूण से ही नए जियो का निर्माण होता है

निषेचन पश्च घटना: पादपों में निषेचन पश्च

निषेचन पश्च घटना: पादपों में निषेचन पश्च 

कोशिका विभाजन और विभेदन:

भ्रूण का निर्माण हमेशा दो कारक से होता है जिससे जीवो में जनन होता है वह दो कारक निम्नलिखित है

1. पर्यावरण

2. जिओ का जीवन चक्र

चलिए इसको हम एक उदाहरण के जरिए समझते हैं या एक उदाहरण के माध्यम से हम आपको अच्छे से समझा की कोशिश करके

उदाहरण: 

shaiwale  में युग्मज पर एक मोटे भक्ति बन जाती है जो उसके प्रतिकूल परिस्थितियों सूखा ठंड में रक्षा करते हैं एवं लंबे समय तक विस्तारित अवस्था में रहने के बाद अनुकूल परिस्थितियों में यह अंकुरित होकर नई संतति को जन्म देते हैं

दूसरे शब्दों में: 

shaiwal युग्म आदि पर एक प्रकार की मोटी  भक्ति जमी रहती है जो उसकी सुरक्षा करती है चाहे अनुकूल परिस्थिति हो या फिर प्रतिकूल परिस्थिति हो और दोनों में उसका साथ देते हैं तथा जब समय आने पर अनुकूल परिस्थिति में वह अंकुरित होकर नए जीव या नए पौधे बनाता है

पुष्पी पादपों में निषेचन पश्च घटनाएं:

पुष्पी पादपों में पुष्पक के पुंकेसर झड़ जाते हैं
पुष्प मुरझा करके जाते हैं गिर जाते हैं तथा पुष्पा फल में परिवर्तित हो जाते हैं निषेचन के बाद उसने केवल स्त्रीकेसर ही लगा रह जाता है

कुछ पादपों में वाहिद अल फल बनने के बाद भी पाए जाते हैं

उदाहरण : टमाटर, बैंगन ,भिंडी, आदि

निषेचन के पश्चात तस्वीर भागों में निम्न प्रकार का परिवर्तन होता है

1. अंडाशय  फल में परिवर्तित हो जाता है

2. अंडा भित्ति फल भक्ति में परिवर्तित होता है

3. बीजांड बीच में परिवर्तित हो जाते हैं

4. बीज विकरण के पश्चात अनुकूल परिस्थितियों में अंकुरित होकर नए पादप का जन्म देती हैं

जनन किसे कहते हैं जन्म के बारे में फुल जानकारी आपको जीवो में जनन कैसे होता है लैंगिक तथा अलैंगिक जनन आदि सभी के बारे में आपको जानकारी प्राप्त करने के लिए यहां पर क्लिक करें


स्वपरागण तथा पर परागण में अंतर स्वपरागण और पर परागण की परिभाषा आपको बहुत ही आसान शब्दों में एक ही बार में याद हो जाएगा जिससे आपको बहुत ही जल्दी याद हो जाएगा पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पुष्प की संरचना पुष्प की संरचना आप बहुत ही अच्छे से पढ़ सकते हैं कि पुरुषों में कौन कौन से भाग होते हैं तथा कौन कौन सा विभाग का कौन-कौन कार्य होता है आपको यह सब पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें

1. वैद्युत द्विध्रुव किसे कहते हैं तथा उसका परिभाषा और डेरी वेशन बहुत ही आसान शब्दों में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

2. गाउस का नियम तथा गौस का अनुप्रयोग तथा डांस का परिभाषा आपको हर एक गौस परमेश्वर लेटर आपको यहां पर देखने को मिलेगा तो आप पढ़ना चाहते हैं तो अपने गांव के नियम को कैसे पढ़ सकते हैं

3. वैधुत फ्लक्स किसे कहते हैं तथा वैधुत फ्लक्स की  परिभाषा तथा डेयरी वैसे आप अच्छे से पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

4. कूलाम का नियम कूलाम का नियम क्लास 12 में बहुत ही जरूरी होता है आपको 1 से 3 पाठ तक लेकर दिन आपको कूलाम की जरूरत पड़ती है यदि आपको लड़ना चाहते हैं तो आप पढ़ सकते हैं बहुत ही आसान शब्दों में हम आपको बताएंगे

5. व्हीटस्टोन सेतु का नियम का डेरी वेशन तथा इसका परिभाषा बहुत ही आसान शब्दों में पढ़ने के लिए आप यहां पर क्लिक करें

 जनन किसे कहते हैं जन्म के बारे में फुल जानकारी आपको जीवो में जनन कैसे होता है लैंगिक तथा अलैंगिक जनन आदि सभी के बारे में आपको जानकारी प्राप्त करने के लिए यहां पर क्लिक करें

स्वपरागण तथा पर परागण में अंतर स्वपरागण और पर परागण की परिभाषा आपको बहुत ही आसान शब्दों में एक ही बार में याद हो जाएगा जिससे आपको बहुत ही जल्दी याद हो जाएगा पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button